Breaking News

Diwali 2019 Laxmi Pooja Vidhi, Shubh Muhurat : जानिये किन सामग्रियों के बिना है पूजन अधूरा


Diwali 2019 Laxmi Pooja Vidhi, Shubh Muhurat : जानिये किन सामग्रियों के बिना है पूजन अधूरा 

इस वर्ष दीपावली रविवार, 27 अक्टूबर 2019 को मनाई जायेगी | दिवाली के दिन माता लक्ष्मी और भगवान गणेश की भी पूजा अर्चना की जाती है | दीपावली दीपों का त्यौहार है जिसे कार्तिक मास की अमावस्या को मनाया जाता है | 



diwali 2019 shubh muhurth,diwali 2019,dhanteras shubh muhurat 2019,dhanteras 2019 puja muhurat,diwali 2019 puja kab kare,dhanteras shubh muhurat,dwali pooja vidhi,kaise kare diwali ki pooja,saral tarike se kare diwali ki pooja,diwali puja 2019,how to do diwali pooja,dhanteras puja muhurat 2019,dhanteras muhurat 2019,deepawali pooja vidhi 2019,laxmi pooja vidhi for diwali,दिवाली 2019





जानिये दीवाली पूजन का शुभ मुहूर्त :


दिवाली लक्ष्मी पूजा : 27 अक्टूबर 2019

पूजा मुहूर्त : 6.57 PM से 8.24 PM

पूजा मुहूर्त अवधि : 1 घंटा 27 मिनट 

अमावस्या तिथि प्रारम्भ : 27 अक्टूबर 2019 को रात 12.23 PM

अमावस्या तिथि समाप्ति : 28 अक्टूबर 2019 को सुबह 9.08 AM



दिवाली पूजन सामग्री (Diwali Poojan Samagri) : 

दिवाली पूजन के लिए कुछ सामग्री ऐसी हैं जिनके बिना पूजन अधूरा समझा जाता है | जो सामग्री दिवाली पूजन हेतु बेहद आवश्यक है वो निम्नलिखित है :

चौकी, माता लक्ष्मी और भगवान गणेश की मूर्ति या प्रतिमा, थाली, कलश, चांदी का सिक्का, गंगाजल, पंचामृत, नारियल , रोली , कलावा , चन्दन, अक्षत, इलायची, दीपक, शंख , धूप, घी, तेल, दूर्वा , फूलों की माला, मेवा, खील-बताशे, दीये, फल, फूल, मिठाई, पान-सुपारी, लौंग |





दिवाली पूजा विधि (Diwali Pooja Vidhi) :


निम्नलिखित तरीकों से दिवाली पूजन करें :

  • अपने घर को अच्छी प्रकार से साफ़ करलें |
  • पूरे घर में गंगाजल का छिड़काव करें |
  • एक चौकी लेकर उसमें आटे से नवग्रह बनालें | 
  • एक कलश लेकर उसमें जल भर दें और साथ ही दूध, दही, लौंग भी उसमें दाल दे और कलश को लाल कपड़े से बाँध दें |
  • उसके बाद कलश के ऊपर नारियल को रख दें |
  • अब माता लक्ष्मी और भगवान गणेश के चित्र या प्रतिमा को चौकी पर विराजमान कराएं | 
  • हाथ में जल लेकर संकल्प करें | संकल्प के लिए हाथ में जल, अक्षत, सिक्का और फूल ले लें | 
  • इसके बाद भगवान गणेश का पूजन करें और कलश पूजन भी करें | 
  • साथ ही नवग्रह का भी पूजन करें |
  • इसके बाद कलावा गणपति जी और माता लक्ष्मी को अर्पित करें और अपने हाथ पर भी बांध लें |
  • अब सभी देवी देवताओं को तिलक लगाएं | 
  • अब महालक्ष्मी की पूजा शुरू करें |
  • गणेश जी की आरती और लक्ष्मी जी की आरती गायें | 




No comments