Breaking News

Bhai Dooj 2019 - Bhai Dooj Story, Bhai Dooj Katha


Bhai Dooj 2019 - Bhai Dooj Story, Bhai Dooj Katha 

Bhai Dooj 2019

इस वर्ष भाई दूज 29 Oct को मनाया जायेगा जिसका शुभ मुहूर्त 1:10 से 3:27 तक 2 घंटे 17 मिनट की अवधि के लिए रहेगा |


bhai dooj,bhai dooj story,bhai dooj 2019,bhai dooj festival,bhai dooj story in hindi,bhai dooj katha,bhai dooj ki kahani,bhaiya dooj ki kahani,bhaiya dooj,bhai dooj 2019,bhai dooj kab hai,bhai dooj celebration,bhai dooj katha in hindi,story of bhai dooj,bhai dooj vrat katha,bhai dooj ki kahani in hindi,bhai dooj video,bhai dooj ki katha,bhai dooj holi 2019,bhai dooj hindi




Bhai Dooj Story

भैया दूज का पर्व प्रत्येक वर्ष कार्तिक शुक्ल के दिन मनाया जाता है | दिवाली के तुरंत बाद इस त्यौहार को बड़े ही उत्साह के साथ मनाया जाता है | भैया दूज का पर्व भाई-बहन के अटूट प्रेम को दर्शाता है | आज हम आपको भैया दूज की कथा बताने जा रहे हैं |



Bhai Dooj Katha

भगवान सूर्य नारायण की पत्नी का नाम छाया था | छाया ने अपनी कोख से 2 बच्चों को जन्म दिया जिनका नाम यमराज और यमुना था | यमुना और यमराज के बीच में बहुत प्यार था | यमुना हमेशा यमराज से यही आग्रह किया करती थी कि यम उसके घर आए उसका आदर सत्कार स्वीकार करें लेकिन यमराज अपने कार्यों में व्यस्त रहने के कारण अपनी बहन से मिलने के लिए उसके घर नहीं जा पाते थे और हर बार इसी वजह से उन्हें अपनी बहन की बात को टालना पड़ता था फिर जब कार्तिक शुक्ल का दिन आया तो यमुना ने फिर से अपने भाई यमराज को अपने घर आने का निमंत्रण भेजा|




Bhai Dooj story in Hindi

यमराज ने भी सोचा कि मैं तो लोगों के प्राणों को हरता हूं और मुझे कोई भी अपने घर नहीं बुलाना चाहता लेकिन मेरी बहन इतने प्यार से मुझे अपने घर बुला रही है तो मुझे उसके घर जाना चाहिए | अपने धर्म का पालन करना चाहिए | यही सोच कर यमराज अपनी बहन यमुना के घर चले जाते हैं  | यमुना जैसे ही अपने भाई यमराज को देखती है तो वह बहुत खुश हो जाती है और उसकी खुशी का ठिकाना नहीं रहता | उसके बाद यमुना नहा-धोकर अपने भाई के लिए अलग-अलग तरह के व्यंजन बनाती है और उन्हें बड़े ही प्यार से परोस कर उन्हें उनका आदर सत्कार करती है | यमराज अपनी बहन की इस आदर सत्कार से बेहद प्रसन्न हो जाते हैं और अपनी बहन को कहते हैं कि वह उनसे कोई भी वरदान मांगे |


Story of Bhai Dooj 

यह सुनते ही यमुना कहती है कि उसे सिर्फ एक वरदान चाहिए | वह यही कि हर साल इसी तरह वे उससे मिलने आते रहे और उसके आदर सत्कार को स्वीकार करें और साथ ही यमुना कहती है कि मेरी तरह जो भी बहन इस दिन अपने भाई का आदर सत्कार करेगी | उसको टीका करेगी तो उसे आपका भय नहीं रहेगा | यमराज ने भी अपनी बहन के इस वरदान को मान लिया और तथास्तु कहकर यमुना को अनेक प्रकार के वस्त्र और आभूषण देकर यमलोक की और निकल गए | बस इसी दिन से इस पर्व को मनाने की परंपरा बनी | 

Bhai Dooj WhatsApp Status


ऐसा माना जाता है कि जो भी बहने इस दिन अपने भाइयों की पूजा करती हैं| आदर-सत्कार करती है | उनके भाइयों की उम्र बढ़ जाती है और साथ ही जो लोग भी इस दिन यमुना और यमराज का पूजन करते हैं उन्हें यम का भय नहीं रहता है | इसी मान्यता के कारण भैया दूज के दिन बहनें अपने भाइयों का तिलक करती हैं उनके माथे पर तिलक कर उन्हें कलावा बांधती हैं और साथ ही उनको मिष्ठान भी खिलाती हैं और उनकी लंबी आयु की कामना करती है |

Also, read some other articles about Indian Festivals :

No comments