Breaking News

बारिश की बूँदें - Beautiful poem on Rain


बारिश की बूँदें - Beautiful Hindi Poem on Rain


आयी सावन में घटा 
बड़ी निराली है ये छटा 
चल रही है ठंडी-ठंडी पवन 
चमक रहा है पूरा गगन

देखकर ये नज़ारा मैं भी हो गयी इसमें मगन
गगन मैं छाए हैं काले-काले बादल 
नदियों में पानी कर रहा है कल-कल
महक रहा है मेरा मन भी पल-पल


poem,rain,poems,poem on rain,rain rain go away,best poem on rain,poem on rain in hindi,very short poem on rain,poems for kids,marathi poems on rain,poems for children,english poem on rain for kids,poem rain,rain on the roof,english poem on rain for class 1,rain poems for children on rain,poem on rain in english for class 9,english poem,poem about rain,lkg poem rain,ukg poem rain


गिरते ही बारिश की बूँद
मैंने आँखें ली अपनी मूँद
जब चेहरे पर बूंदे बारिश की गिरी
मेरे चेहरे पर हंसी खिली
मानो जैसे पानी मिलने पर
कोई मुरझाई कली खिली

मिट्टी से भी आने लगी सुगंध
बारिश ने मिटा दी है प्रदूषण की दुर्गन्ध
पूरी धरती रही है बारिश की खुशबू से महक
चिड़ियाँ भी रही है चहक




मैं भी बारिश में नहाकर मजा ले रही हूँ 
बारिश का छत पर आकर
बारिश की बूंदों को पाकर
सुहाना सा लग रहा है
बारिश में बाहर आकर

बूँदें गिर रही हैं करके छप-छप
पानी की आवाज़ आ रही है टप-टप
पायल मेरी मचाने लगी है शोर
ऐसे मौसम में तो नाच उठेंगे अब मोर
आसमान में बादल छाए है घनघोर
बारिश की छटा छायी है चारो ओर




हवाएं लग रही हैं सुहानी
हो गयी मैं इस मौसम की दीवानी
बादलों में बिजली की हो रही है गड़गड़ाहट
इस शोर से कोई डर गया तो
किसी के चेहरे पर आ गयी मुस्कुराहट
बारिश से है एक ही दरख्वास्त
सुहाना तो करना मौसम को ऐ बरसात

लेकिन इतना भी न बरसना कि
लोगों के लिए हो जाये मुसीबत
ऐसे बरसना कि मन को मिले सुकून
कर देना मौसम की गर्माहट को दूर
ताकि हो जाये हर कोई मजबूर

No comments