Breaking News

रक्षाबंधन की कहानी - Interesting Story Behind Rakhi Festival in India.


रक्षाबंधन क्या है? 

What is Rakshabandhan?

रक्षाबंधन एक हिन्दू त्यौहार है | इसे हर साल श्रावण मास की पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है | रक्षाबंधन का त्यौहार भाई-बहन के बीच के प्यार को दर्शाने का एक प्रतीक है | रक्षाबंधन तो हम सभी मानते हैं लेकिन रक्षाबंधन की कहानी आखिर क्या है ये काम ही लोग जानते हैं तो चलिए इस बारे में बात करते हैं |

rakshabandhan,what is rakshabandhan,raksha bandhan,what is rakshabandhan festival,what is raksha bandhan 2018,rakshabandhan song,raksha bandhan 2018,raksha bandhan special,what is rakhi,rakhi,raksha bandhan history,how is raksha bandhan,kya hai rakshabandhan,rakshabandhan geet,rakshabandhan vlog,rakshabandhan india,rakshabandhan video,rakshabandhan kya hai,happy raksha bandhan,raksha bandhan song


How to celebrate Rakhi/Rakshabandhan?

रक्षाबंधन के दिन बहनें अपने भाइयों की कलाई पर राखी बांधती हैं | उनके माथे पर तिलक करती हैं  | साथ ही उनकी ख़ुशी और अच्छे स्वास्थ्य के लिए भगवान से प्रार्थना करती हैं | यह एक बहन के प्यार को दर्शाने का एक प्रतीक है | भाई अपनी बहन को प्यार स्वरुप कोई भी भेंट देता है और साथ ही ज़िन्दगी भर उसकी रक्षा का वादा करता है|

rakhi rakshabandhan 2018 best photo best wallpaper best whatsapp message for rakhi 2018,रक्षाबंधन,रक्षाबंधन 2017,रक्षा बंधन,रक्षा बंधन 2018,रक्षाबंधन 2018,रक्षाबंधन rakshabandhan,रक्षाबंधन कॉमेडी,हिट रक्षा बंधन गीत 2018,रक्षाबंधन पूजन विधि,राजस्थानी रक्षाबंधन,gift,रक्षाबंधन,रक्षा बंधन,raksha bandhan gifts for brother,रक्षाबंधन 2017,रक्षाबंधन विशेष,open gift,best gift,gifts,रक्षाबंधन कॉमेडी,brother gift,food gift box,रक्षाबंधन पर कविता,unboxing gift,gift unboxing,birthday gift,rakhi gifts,photo frame gift,raakhi gifts,indian gifts,indian gift ideas

Rakshabandhan Wishes / Rakshabandhan Status / Rakshabandhan Quotes


" जो दर्शाता है भाई-बहन के बीच का प्यार
ये कहलाता है रक्षाबंधन का त्यौहार
हर साल श्रावण मास की पूर्णिमा तिथि को है यह मनाया जाता
बहनों द्वारा भाइयों का माथा तिलक से है सजाया जाता
राखी के रूप में बहन द्वारा
अपना प्यार भाई की कलाई में बांधा जाता
भाई भी बहन की रक्षा करने की कसम है खाता "



रक्षाबंधन क्यों मनाया जाता है? 

Why do we celebrate Rakhi?

रक्षाबंधन में क्या किया जाता है ये तो हम सबको पता है | लेकिन क्या आप जानते हैं रक्षाबंधन क्यों मनाया जाता है ? इसको मनाने के पीछे का वास्तविक कारण क्या है ? रक्षाबंधन को मनाने की शुरुआत कब से हुई ? आप इन सभी सवालों के जवाब इस अनुच्छेद में जानेंगे | तो आइये आपको रक्षाबंधन से जुड़े कुछ रोचक तथ्यों से रूबरू कराते हैं |


रक्षाबंधन की कहानी - Story of Rakshabandhan in Hindi

rakshabandhan,raksha bandhan story,raksha bandhan,raksha bandhan history,rakhi story,raksha bandhan story in hindi,rakshabandhan story,history of raksha bandhan,kids rakshabandhan,story,history of rakhi festival rakshabandhan story,raksha bandhan story on bollywood style,history of raksha bandhan in hindi,story of raksha bandhan,rakshabandhan ki history,raksha bandhan short film,raksha bandhan special,raksha bandhan history,rakshabandhan,raksha bandhan history in hindi,history of raksha bandhan,rakhi history,history of raksha bandhan in hindi,raksha bandhan,rakshabandhan history in hindi,history of rakhi,history,rakshabandhan special,rakhi,rakshabandhan ki history,raksha bandhan 2018,raksha bandhan histroy,raksha bandhan story,raksha bandhan hindi story,raksha bandhan special,rakshabandhan story

हमारी पौराणिक मान्यता के अनुसार रक्षाबंधन से जुड़े इस तथ्य के अनुसार एक बार राजा बलि अपनी शक्ति से सभी देवताओं को परास्त कर देते हैं | इस वजह से सभी देवता भगवान विष्णु के समक्ष जाते हैं और अपनी रक्षा की प्रार्थना करते हैं | 


Rakshabandhan ka Dharmik Mahatva

विष्णु जी वामन अवतार में ब्राह्मण रूप में राजा बलि से भिक्षा मांगने जाते हैं | विष्णु जी राजा बलि से तीन पग भूमि मांगते हैं | राजा बलि भी विष्णु जी को तीन पग भूमि देने का वचन देते हैं | भगवान विष्णु ने एक पग में स्वर्ग व दूसरे पग में पृथ्वी को नाप लिया और अब तीसरे पग की बारी आयी | राजा बलि ने अपना सर भगवान विष्णु के पग तले रख दिया और वह रसातल लोक में पहुँच गया |


रक्षाबंधन का इतिहास - History of Rakshabandhan

जब बलि रसातल चला गया तो उसने रात-दिन भगवान विष्णु की उपासना करके उनसे वचन ले लिया की वे हर समय उसके सामने रहेंगे | विष्णु जी के वचन का पालन करने के लिए राजा बलि को द्वारपाल बनना पड़ा | यह सब देखकर लक्ष्मी माता चिंतित हो गयी और उन्हें लगा यदि भगवान विष्णु इस तरह द्वारपाल बनकर रसातल में ही निवास करने लगेंगे तो फिर बैकुंठ लोक का क्या होगा ?


रक्षाबंधन की कहानी - Rakshabandhan Story in Hindi

तत्पश्चात नारद जी ने लक्ष्मी माता को एक उपाय सुझाया कि वे राजा बलि को अपना भाई बनाले | लक्ष्मी माता ने राजा बलि के पास जाकर उसे राखी बाँध दी और अपना भाई बना लिया और उपहार स्वरुप अपने भाई से भगवान विष्णु को वापस बैकुंठ लोक ले जाने की बात कही | 


raksha bandhan history in hindi,history of raksha bandhan in hindi,raksha bandhan in hindi,raksha bandhan history,rakshabandhan,rakshabandhan history in hindi,raksha bandhan hindi story,raksha bandhan essay in hindi,raksha bandhan story in hindi,hindi,history of raksha bandhan,raksha bandhan,rakshabandhan story in hindi,essay on raksha bandhan in hindi,history of rakshabandhan in hindi,raksha bandhan whatsapp status,rakshabandhan status,raksha bandhan status,whatsapp status,rakhi whatsapp status,raksha bandhan whatsapp status song,rakhi status song 2018,lattest rakhi status,raksha bandhan status today,status for raksha bandhan,new raksha bandhan status video,rakhi status,status today raksha bandhan status to,whatsapp status for raksha bandhan


रक्षाबंधन से जुड़ा तथ्य - Facts about Rakshabandhan

राजा बलि ने भी अपनी बहन की इच्छा का मान रखा और अपनी बहन को यह उपहार भेंट कर दिया | इस प्रकार लक्ष्मी माता भगवान विष्णु को वापस अपने साथ बैकुंठ लोक में ले आयी | जिस दिन यह वाक्या घटित हुआ उस दिन श्रावण मास की पूर्णिमा तिथि थी और तब से ही रक्षाबंधन का त्यौहार श्रावण मास की पूर्णिमा तिथि को मनाया जाने लगा |

तो पाठकों यही रक्षाबंधन से जुड़ा तथ्य है की इसे क्यों मनाया जाता है | जब हम हर साल इसे मानते हैं तो हमे इसको मनाने के पीछे के कारण से भी वाकिफ होना चाहिए | आशा है कि यह अनुच्छेद पढ़ने के बाद आप रक्षाबंधन से जुड़े सभी तथ्यों को भली-भांति समझ गए होंगे |


Also read some other Hindu Festivals articles :




Sri Krishna Janmashtami celebration in India

Best Janmashtami wishes, quotes, whatsapp status






No comments